Wednesday, December 7, 2022
Home Blog

पूर्व प्रधान की धारदार हथियार से गला रेतकर हत्या

0

बलिया। सुखपुरा थाना क्षेत्र के भलुही ग्राम के पूर्व प्रधान हृदय नारायण सिंह (65) की सोमवार रात बदमाशों ने धारदार हथियार से गला रेतकर हत्या कर दी। सुबह परिजन चाय देने के लिए बरामदे में पहुंचे तो मामले की जानकारी हुई। जटना की सूचना फैलते ही क्षेत्र में सनसनी फैल गई। एसपी समेत कई थानों को फोर्स मौके पर पहुंची।

डाग स्क्वाड एवं फॉरेसिंक टीम ने मौके से साक्ष्य जुटाए। एसपी ने खुलासे के लिए टीम का गठन कर दिया है। जल्द खुलासे का दावा किया गया है। वर्तमान में उपभोक्ता भंडार निगम के अध्यक्ष एवं पूर्व प्रधान हृदय नारायण सिंह सोमवार रात को बरामदे में सोए थे।

मंगलवार सुबह परिजन जब उनकी पत्नी उन्हें उठाने के लिए गईं तो पास में खून के छींटे पड़े थे। ये देख उन्होंने शोर मचाया। बदमाशों में रात में किसी समय उन्की हत्या कर शव को शाल से ढक दिया था। गले चेहरे पर धारदार हथियार से वार किए गए थे।

मामले की जानकारी फैलते ही मौते पर भारी भीड़ जमा हो गई। कई थानों की फोर्स के साथ ही पुलिस अधीक्षक राजकरन नय्यर, एएसपी डीपी तिवारी, सीओ सिटी जितेंद्र कुमार मौके पर पहुंच गए। फॉरेंसिक टीम, डॉग स्क्वायड, एसओजी टीम भी पहुंच गई। एसपी ने पूर्व प्रधान के परिजनों व आसपास के लोगों से पूछताछ की।

परिवार वालों से गहन पूछताछ के बाद उन्होंने घटना के संबंध में और ग्रामीणों से बातचीत कर पूरी जानकारी ली। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि हत्या के मामले में टीम गठित कर दी गई है और बहुत जल्द पूर्व प्रधान हत्याकांड का खुलासा किया जाएगा। पूर्व प्रधान के पुत्र इंद्रपाल उर्फ सोनू की ओर से अज्ञात में मामले की तहरीर दी गई है।

पूर्व प्रधान हृदय नारायण सिंह की हत्या की खबर जैसे ही क्षेत्र में फैली उनके दरवाजे से लेकर थाने तक लोगों का जमावड़ा लग गया। कई गावों को प्रधान और विभिन्न दलों को पदाधिकारी भी मौके पर पहुंचे। परिजनों को सांत्वना देने के साथ ही हत्याकांड के जल्द खुलासे की मांग की।

पौली जर्जर मार्ग की मरम्मत ग्रामीणों ने किया प्रदर्शन

0

बरसात के चलते जर्जर हुए ऐतिहासिक राम जानकी मार्ग के मरम्मत की मांग को लेकर बुधवार को पौली में ग्रामीणों विरोध प्रदर्शन किया। सड़क निर्माण की माँग की।

प्रदर्शन कर रहे ग्रामीणों का कहना था कि ऐतिहासिक राम जानकी मार्ग रामपुर बारह कोनी से तहसील मुख्यालय धनघटा तक पूरी तरह से जर्जर हो चुका है। कई दिनों से हो रही बारिश के चलते सड़क पर बने गड्ढों में जल जमाव से दुर्घटनाओं का सिलसिला जारी है। लगभग 15 किमी मार्ग पर बने बड़े -बड़े गड्ढे जानलेवा बने हैं।

दुल्हापार, पौली, रामपुर बारहकोनी आदि स्थानों पर सड़के धंस गई हैं। सड़क पर गड्ढों में जलजमाव व कीचड़ से भारी वाहनों का गुजरना मुश्किल हो गया है। रामपुर बारह कोनी बाजार से पश्चिम व पौली शिव मंदिर से पश्चिम व चौराहे से पूर्व तथा दुल्हापार बाजार से पूरब सड़क पर बने जानलेवा गड्ढों में भरे पानी के बीच आए दिन दो पहिया वाहन गिरते रहते हैं।

सड़क की हालत दिन प्रतिदिन बिगड़ती जा रही है। खतरनाक गड्ढे जानलेवा बन चुके हैं। प्रदर्शनकारियों ने जिम्मेदार अधिकारियों से जर्जर सड़क के मरम्मत कराने की मांग की गई है।

लगातार बढ़ रहा है जलस्तर,दर्जन भर स्कूलों में पानी बढ़ने से पढ़ाई ठप, सरयू की बाढ़ से धनघटा क्षेत्र के 18 गांव चपेट में

0

सरयू की बाढ़ से धनघटा क्षेत्र के 18 गांव मैरुंड हो गए हैं। नदी का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है। सरयू खतरे के निशान से सिर्फ 20 सेमी नीचे है। वहीं राप्ती खतरे के निशान से 15 सेमी नीचे स्थिर है। बाढ़ से अवरुद्ध हुए रास्तों के चलते लोगों की मुसीबत में कमी नहीं हो रही है। गांवों में पानी भरने से छत पर खाना बनाने को लोग मजबूर हैं। दर्जन पर स्कूलों में बाढ़ का पानी भरा होने से पढ़ाई ठप हो गई है। आने-जाने वाले रास्ते पर पानी भरा है। नाव लोगों का सहारा बनी है। बाढ़ प्रभावित गांव के लोग खाने और पीने के पानी के लिए मोहताज हो रहे हैं। बिजली आपूर्ति बाधित होने से बाढ़ पीड़ित अंधेरे में रहने को मजबूर हैं।

धनघटा तहसील क्षेत्र के बाढ़ से प्रभावित लगभग 18 गांव के लोगों के लिए काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। बाढ़ पीड़ितों में तमाम तरह की समस्याएं उत्पन्न हो गई हैं। परिवार के लोगों को व पशुओं को सकुशल निकाल कर सुरक्षित स्थान पर पहुंचाना पड़ रहा है। उनके रहने और खाने पीने की व्यवस्था करने के साथ-साथ लोगों का स्थानीय एमबीडी बंधा या नात रिश्तेदार या अगल-बगल के लोगों के यहां रहने के लिए विवश होना पड़ रहा है। बाढ़ पीड़ितों का कहना है कि नदी का जलस्तर बढ़ने के कारण बिजली सप्लाई भी बाधित कर दी गई है। लोगों को अंधेरे में ही रहने के लिए मजबूर हैं। पीने के लिए पानी व खाने के लिए भोजन की व्यवस्था के लिए भी हम लोगों को इधर-उधर झांकना पड़ता है सरकार द्वारा स्थापित बचाव एवं राहत कैंप में केवल खानापूर्ति की जा रही है।

गांव के लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है

18

● बिजली आपूर्ति बाधित अंधेरे में रहने को मजबूर बाढ़ पीड़ित

बाढ़ पीड़ितों ने राहत और बचाव कार्य के लिए किया प्रदर्शन

बाढ़ से प्रभावित गायघाट दक्षिणी, सियर कला आदि गांव के लोगों ने बुधवार को एमबीडी बंधे पर राहत और बचाव कार्य की मांग को लेकर जोरदार प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारियों ने तहसील प्रशासन के ऊपर बाढ़ पीड़ितों के प्रति लापरवाही बरतने का आरोप लगाया। प्रदर्शनकारियों ने मांग की है कि बंधे पर रह रहे लोगों को तत्काल बरसात व धूप से बचाने के लिए पन्नी की व्यवस्था, जानवरों के चारे की व्यवस्था, के साथ-साथ जरूरी चीजों को उपलब्ध कराया जाए। इस दौरान गुड़िया, कलावती, प्रभावती , उषा, रीता, राजमती, किस्मती, विद्यावती आदि मौजूद रहे।

सांथा ब्लाक मुख्यालय पर पानी भरने से काम प्रभावित

सांथा ब्लाक मुख्यालय पर पिछले सप्ताह से ही बरसात का पानी भरा हुआ है। पूरे ब्लाक परिसर में चारो तरफ पानी भरा हुआ है। इससे कार्य प्रभावित हो रहा है। जल निकासी की उचित व्यवस्था न होने से एक सप्ताह बाद भी ब्लाक परिसर में चारो तरफ पानी भरा हुआ है। जल निकासी की समस्या को लेकर जिम्मेदार पूरी तरह से बेखबर हैं। अभी तक जल निकासी के लिए कोई उचित व्यवस्था नहीं की जा रही है। ब्लाक पर तैनात कर्मचारियों को बीमारी फैलने का डर सता रहा है। ऐसे में काम करने के लिए ब्लाक में आने पर कतरा रहे हैं।

विद्यालयों में पानी घुस जाने के कारण शिक्षण कार्य बंद

बाढ़ प्राभवित के लगभग दर्जन भर विद्यालयों में पानी घुस जाने के कारण शिक्षण कार्य बंद हो गया है। धनघटा तहसील के बाढ़ से प्रभावित प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालयों में घाघरा नदी के बढ़ते जलस्तर से विद्यालयों में पूरी तरह से पानी भर गया है जिसके कारण शिक्षण कार्य ठप हो गया है। प्रावि गायघाट, उच्च प्रावि गायघाट, प्रावि खटहा खैरगाढ़, प्राथमिक विद्यालय भौवापार, प्रावि धमचिया,प्रावि दौलतपुर दक्षिणी, प्रावि चपरा पूर्वी, प्रावि केवटहिया, प्रावि आगापुर गुलरिया में सरयू नदी के बढ़ते जलस्तर के कारण जलमग्न हो गया है।

बाढ़ पीड़ितों की समस्याओं को ध्यान में रखते हुए शासन को रिपोर्ट प्रेषित कर दी गई है। शासन का दिशा निर्देश मिलते ही बाढ़ पीड़ितों की समस्याओं का निदान कर दिया जाएगा। आवश्यकता के अनुसार हर गांव में नाव की व्यवस्था कर दी गई है जिससे लोग अपने घरों से निकलकर सुरक्षित स्थानों पर पहुंच सकें ताकि किसी प्रकार की कोई अनहोनी या बड़ी घटना ना होने पाए।

ए भी पढ़ें

  • पूर्व प्रधान की धारदार हथियार से गला रेतकर हत्या

  • पौली जर्जर मार्ग की मरम्मत ग्रामीणों ने किया प्रदर्शन

  • लगातार बढ़ रहा है जलस्तर,दर्जन भर स्कूलों में पानी बढ़ने से पढ़ाई ठप, सरयू की बाढ़ से धनघटा क्षेत्र के 18 गांव चपेट में

  • मुकेश अंबानी: India Business tycoon ने $25bn 5G रोलआउट योजना लॉन्च की

source: livehindustan

मुकेश अंबानी: India Business tycoon ने $25bn 5G रोलआउट योजना लॉन्च की

0
Reliance Industries Chairman Mukesh Ambani(Photo credit should read INDRANIL MUKHERJEE/AFP via Getty Images)

Indian multi-billionaire Mukesh Ambani ने दो महीने के भीतर देश में 5G मोबाइल इंटरनेट सेवाएं शुरू करने के लिए $25bn (£21.3bn) की योजना की घोषणा की है।

telecoms-to-retail group Reliance Industries, के प्रमुख अंबानी का कहना है कि हाई-स्पीड नेटवर्क को सबसे पहले नई दिल्ली और मुंबई समेत बड़े शहरों में पेश किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि दिसंबर 2023 तक इसका विस्तार शेष भारत में किया जाएगा।

कंपनी एक बजट 5G स्मार्टफोन विकसित करने के लिए Google के साथ भी काम कर रही है।

रिलायंस की वार्षिक आम बैठक में सोमवार को बोलते हुए, श्री अंबानी ने कहा कि एक बार फर्म का 5जी नेटवर्क पूरी तरह से चालू हो जाने के बाद यह दुनिया में सबसे बड़ा हो जाएगा।

यह सेवा रिलायंस की सहायक कंपनी जियो के माध्यम से शुरू की जाएगी – जो India’s largest mobile carrier है।

श्री अंबानी ने यह भी कहा कि रिलायंस एक “अल्ट्रा-किफायती” 5G स्मार्टफोन विकसित करने के लिए अमेरिकी प्रौद्योगिकी दिग्गज Google के साथ काम कर रहा था, इसकी कीमत या लॉन्च की योजना के बारे में अधिक जानकारी दिए बिना।

भारत में सबसे सस्ते 5G-रेडी स्मार्टफोन की कीमत वर्तमान में लगभग $150 है।

घोषणाएं तब हुईं जब भारत के डिजिटल भविष्य में वर्चस्व की लड़ाई तेज हो रही है।

इस महीने की शुरुआत में, भारत सरकार ने 5G airwaves सहित airwaves के लिए रिकॉर्ड $19bn नीलामी का समापन किया , जहां Jio शीर्ष खरीदार के रूप में उभरा।

इसने अन्य प्रमुख खिलाड़ियों वोडाफोन आइडिया और भारती एयरटेल – और चौथे नए प्रवेशकर्ता, अदानी डेटा नेटवर्क्स से भी बोलियां प्राप्त कीं।

हाई-स्पीड मोबाइल इंटरनेट की पांचवीं पीढ़ी – या 5G – ड्राइवर रहित कारों और कृत्रिम बुद्धिमत्ता जैसी उभरती प्रौद्योगिकियों का समर्थन करती है।

यह देश को $1tn डिजिटल अर्थव्यवस्था में बदलने की भारत की योजनाओं के केंद्र में देखा गया।

मई में, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि 5G “न केवल इंटरनेट की गति को तेज करेगा बल्कि विकास और रोजगार को भी बढ़ावा देगा।”

रिलायंस जियो इन्फोकॉम लिमिटेड के अध्यक्ष आकाश अंबानी, सोमवार, 29 अगस्त, 2022 को मुंबई, भारत में रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड की वार्षिक आम बैठक के दौरान लाइव स्ट्रीम के माध्यम से बोलते हैं। रिलायंस 2 ट्रिलियन रुपये (25 बिलियन डॉलर) का निवेश करेगी। अक्टूबर में सबसे बड़े भारतीय शहरों में अपनी 5G सेवाओं को रोल आउट करें, इसके अरबपति-अध्यक्ष मुकेश अंबानी ने कहा कि वह 221 बिलियन डॉलर के साम्राज्य का विस्तार और विविधता जारी रखते हैं, Photographer: Dhiraj Singh/Bloomberg via Getty Images

निवेशकों को व्यापक संबोधन के दौरान, श्री अंबानी ने अपने व्यापारिक साम्राज्य के लिए एक उत्तराधिकार योजना भी रखी।

65 वर्षीय ने पुष्टि की कि उनकी बेटी ईशा रिलायंस के खुदरा उद्यमों का नेतृत्व करेगी, जबकि उनका सबसे छोटा बेटा अनंत अपने नए ऊर्जा व्यवसाय में शामिल होगा।

उनके बड़े बेटे आकाश को इस साल जून में जियो का चेयरमैन नियुक्त किया गया था।

ब्लूमबर्ग बिलियनेयर्स इंडेक्स के अनुसार, अनुमानित कुल संपत्ति $91.9bn के साथ, श्री अंबानी दुनिया के ग्यारहवें सबसे अमीर व्यक्ति और एशिया के दूसरे सबसे अमीर व्यक्ति हैं।

उनके दिवंगत पिता धीरूभाई अंबानी ने एक कपड़ा निर्माता की स्थापना की जो अंततः रिलायंस इंडस्ट्रीज बन गई।

यह अब बाजार मूल्य के हिसाब से भारत का सबसे बड़ा समूह है, जिसमें पेट्रोकेमिकल्स, तेल और गैस, दूरसंचार और खुदरा कारोबार शामिल हैं।

कैसे अंबानी जुकरबर्ग के साथ मिलकर काम कर रहे हैं

अरुणोदय मुखर्जी, भारत व्यापार संवाददाता द्वारा विश्लेषण

मुकेश अंबानी की $25bn की 5G सेवाओं को लॉन्च करने की प्रतिज्ञा का उद्देश्य न केवल दूरसंचार बल्कि खुदरा क्षेत्र में भी प्रतिस्पर्धा को आगे बढ़ाना है।

उस योजना के दूसरे भाग में दो दिग्गज शामिल होंगे – श्री अंबानी की रिलायंस और अमेरिकी प्रौद्योगिकी दिग्गज मेटा – जिसे पहले फेसबुक के नाम से जाना जाता था।

1.4 बिलियन लोगों के देश में, मेटा के व्हाट्सएप प्लेटफॉर्म के लगभग 500 मिलियन उपयोगकर्ता हैं – एक उपयोगकर्ता आधार श्री अंबानी अपनी ऑनलाइन खुदरा पेशकश के साथ लुभाने की उम्मीद कर रहे हैं।

भारत व्हाट्सएप का सबसे बड़ा बाजार भी है और मेटा बॉस मार्क जुकरबर्ग, अपने व्हाट्सएप बिजनेस प्लेटफॉर्म को आगे बढ़ाना चाह रहे हैं – जो मैसेजिंग प्लेटफॉर्म पर वाणिज्य की अनुमति देता है – अब एक साल से अधिक समय से।

इस गठजोड़ से रिलायंस ऑनलाइन रिटेल सेक्टर में अपनी पहुंच बढ़ा सकेगी। और मेटा के लिए, रिलायंस जैसे प्रमुख खिलाड़ी के साथ साझेदारी करना और व्हाट्सएप पर सभी उपयोगकर्ताओं के लिए अपनी सेवाएं उपलब्ध कराना, इसे भारत में एक मजबूत पकड़ देता है।

भारत में लगभग 700 अरब डॉलर का खुदरा बाजार है और हमने बड़े व्यवसायों को उस स्थान पर हावी होने के लिए संघर्ष करते देखा है।

रिलायंस रिटेल देश भर में 12,000 से अधिक स्टोर के साथ भारत का सबसे तेजी से बढ़ता और सबसे अधिक लाभदायक खुदरा कारोबार संचालित करता है।

और अपने संयुक्त पराक्रम के साथ वे अमेज़ॅन और वॉलमार्ट के स्वामित्व वाले फ्लिपकार्ट जैसे ऑनलाइन खुदरा दिग्गजों को लेने और हराने की उम्मीद करते हैं।

कोविड प्रोटोकाल के लिए स्कूली बच्चों व लोगों को करें जागरुक – सीएम योगी

0

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को लेकर बुधवार को कोविड प्रबंधन के लिए गठित टीम-9 के साथ बैठक में अधिकारियों को निर्देश दिए। उन्‍होंने मास्क लगाने के साथ स्कूलों में बच्चों और लोगों को कोविड प्रोटोकाल के लिए जागरुक करने के निर्देश दिए।

बता दें कि पिछले कुछ दिनों से विभिन्न राज्यों में कोविड के केस में बढ़ोतरी देखने को मिल रही है। एनसीआर के जिलों में भी इसका प्रभाव है। पिछले 24 घंटे में गौतमबुद्ध नगर में 103 और गाजियाबाद में 33 नए पाजिटिव मरीजों की पुष्टि हुई है। एनसीआर के जिलों तथा लखनऊ में सभी के लिए सार्वजनिक स्थानों पर फेस मास्क लगाया जाने की व्यवस्था को प्रभावी ढंग से लागू किया जाए। लोगों को कोविड प्रोटोकाल का अनुपालन के लिए जागरूक किया जाए। 

बच्चों की स्वास्थ्य सुरक्षा को लेकर हमें सतर्क रहना होगा। इसी के साथ स्कूलों में कोविड प्रोटोकाल का बारे में बच्चों को जागरूक किया जाए। एनसीआर के जनपदों (गौतमबुद्ध नगर, गाजियाबाद, हापुड़, मेरठ, बुलंदशहर, बागपत) तथा लखनऊ जनपद में टीकाकरण से छूटे लोगों को चिन्हित कर वैक्सीनेट किया जाए।

पब्लिक एड्रेस सिस्टम का प्रभावी ढंग से इस्तेमाल किया जाए। प्रदेश में वर्तमान में कुल एक्टिव केस की संख्या 856 है। प‍िछले 24 घंटों में 01 लाख 13 हजार कोरोना टेस्ट किए गए, जिसमें 170 नए कोरोना मरीजों की पुष्टि हुई। इसी अवधि में 110 लोग उपचारित होकर कोरोना मुक्त भी हुए। हमें पूरी सावधानी और सतर्कता बरतनी होगी।

कोविड टीकाकरण अभियान की प्रगति संतोषप्रद है। किंतु बच्चों के टीकाकरण को और तेज करने की आवश्यकता है। 30 करोड़ 86 लाख से अधिक कोविड टीकाकरण के साथ ही 18+ आयु की पूरी आबादी को टीके की कम से कम एक डोज लग चुकी है, जबकि 86.69 प्रतिशत से अधिक वयस्क लोगों को दोनों खुराक मिल चुकी है। 15 से 17 आयु वर्ग में 94.26 प्रतिशत किशोरों को पहली खुराक मिल चुकी है।

12 से 14 आयु वर्ग के बच्चों को पहली डोज के बाद अब पात्रता के अनुसार दूसरी डोज भी दी जाए। 18+ आयु के लोगों को बूस्टर डोज लगाए जाने में तेजी की अपेक्षा है। प्रत्येक दशा में यह सुनिश्चित किया जाए कि एक भी नागरिक टीकाकरण से वंचित न रहे। बूस्टर डोज की महत्ता और बूस्टर टीकाकरण केंद्रों के बारे में आमजन को जागरूक किया जाए।

काशी पहुंचे मॉरिशस के प्रधानमंत्री प्रविंद जगन्‍नाथ का हुआ भव्‍य स्‍वागत

0

वाराणसी। मॉरिशस के प्रधानमंत्री प्रविंद जगन्नाथ अपने 17 सदस्यीय दल के साथ तीन दिवसीय प्रवास पर वाराणसी पहुंच चुके हैं।  अहमदाबाद से स्पाइसजेट के विशेष विमान से बाबतपुर एयरपोर्ट पर शाम 6:10 बजे उतरे। एयरपोर्ट पर मॉरिशस के प्रधानमंत्री का भव्य स्वागत किया गया।

कैबिनेट मंत्री अनिल राजभर, भाजपा नेता शैलेश पांडेय, एयरपोर्ट निदेशक आर्यमा सान्याल,आईजी, डीआईजी, कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने उनकी अगवानी की। इस मौके पर एसडीएम पिंडरा, मेयर मृदुला जायवला, जिला पंचायत अध्यक्ष पूनम मौर्या समेत कई अन्य लोग मौजूद रहे।

एयरपोर्ट से मॉरीशस के पीएम का काफिला नदेसर स्थित होटल के लिए रवाना हो गया। रास्ते में जगह-जगह  स्कूली बच्चे भारत और मॉरिशस के ध्वज के साथ अभिनंदन के लिए सड़क किनारे खड़े हैं। वहीं कई स्थानों पर लोक कलाकारों ने नृत्य की प्रस्तुति की। सड़क किनारे कई स्थानों पर वेलकम पोस्टर लगाए गए हैं। मॉरिशस के प्रधानमंत्री प्रविंद जगन्नाथ आज किसी विशेष कार्यक्रम में हिस्सा नहीं लेंगे।

सीएम योगी ने पुरोहित कल्‍याण बोर्ड गठित करने का दिया आदेश

0

लखनऊ । उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार 2.0 बुजुर्ग संतों, पुजारियों व पुरोहितों के हित में बड़ा कदम उठाने जा रही है। भाजपा के लोक कल्याण संकल्प के वादे के अनुरूप सीएम योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश में पुरोहित कल्याण बोर्ड गठित करने का आदेश दे दिया है।

इसी प्रकार ईको एंड रूरल टूरिज्म और सभी 75 जिलों में पर्यटन एवं संस्कृति परिषद का गठन किया जाए।सीएम योगी आदित्यनाथ ने निर्देश दिया कि आगामी 100 दिनों के भीतर श्रद्धालुओं और पर्यटकों की सुविधा के दृष्टिगत ऑनलाइन एकीकृत मंदिर सूचना प्रणाली का विकास किया जाना चाहिए।

जिसमें मंदिरों का विवरण, इतिहास, रूट मैप की जानकारी हो! मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को मंत्रिपरिषद के समक्ष धर्मार्थ कार्य, पर्यटन, संस्कृति व भाषा विभागों की कार्ययोजना प्रस्तुतिकरण देखा और दिशा निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मार्गदर्शन में 21वीं सदी में भारत में सांस्कृतिक नवजागरण हो रहा है। 

प्रदेश की अद्वितीय सांस्कृतिक पहचान को संरक्षित, संवर्धित एवं लोकप्रिय बनाते हुए राज्य को सांस्कृतिक गंतव्य के रूप में प्रतिष्ठित करने का हमारा प्रयास है।